Entertainment Express
Entertainment Film Review

KGF 2, THE BEST FILM EVER MADE, TRUE ENTERTAINER

KGF THE BEST FIILM

आपको एक फिल्म में क्या चाइये होता है ?

एंटरटेनमेंट एंटरटेनमेंट एंटरटेनमेंट , अगर में गलत हु तोह मुझे टोकिये ! फिल्म बनाना कोई खाने का काम नहीं है। कोई भजिया नहीं जिसे हर कोई तल दे कड़ाई में। इसमे लगती है कड़ी मेहनत और जब वह मेहनत रंग लाती है तोह पूरी अवाम उसे पसंद करती है ! ऐसी ही एक काल्पनिक फिल्म है KGF . जो आपको सोचने पर मज़बूर करदेगी ! एक ऐसी फिल्म जो आपको अपनी कुर्सी से बाँध कर रखेगी , अद्भुत चित्र जो आप को निराश नहीं करेगी और आपको देगी पैसे वसूल मनोरंजन ! तोह चलिए बिना कोई फज़ूल बात किये हम शुरू करते है. काल्पिनिक फिल्म जो आपको असल ज़िन्दगी जैसा
भावना देगी।
इसी तरह KGF फिल्म की रचना की गयी है , एक ऐसी फिल्म जो हॉलीवुड या किसी भी अंतरार्ष्ट्रीय फिल्म जगत को हिला सकती है ,
इंडिया बहुत आगे निकल चूका है , और जब हम बात करें साउथ इंडियन फिल्मो की तोह में आपको बता दू के साउथ अभी से अछि फिल्में नहीं बना रहा है ! कई अर्सो से बेहतरीन और लजावब फिल्मे हमें पेश की है , मणि रत्नम की फिल्म रोज़ा, बॉम्बे , साथियाँ ,
और अन्य फिल्मे जैसे कमल हसन ki film–> Hindustani , शनकर की फिल्म रोबोट , शिवजी the बॉस, और भी ऐसी फिल्में है जिसके बारें में क्या ही कहना ,
ऐसी ही एक अनोखी अंदाज़ और धमाकेदार एक्शन और VFX से भरपूर फिल्म, जिसका स्क्रींप्लॉय , राइटिंग, एक्शन, डायरेक्शन, डॉयलोग्स, बैक ग्राउंड स्कोर, लोकेशन , स्टारकासट। सभी पूरी तरह से बेहतरीन है !
फिल्म की विषेश बात यह क यह पहली भाग से भी ज्यादा जबजस्त बनायीं गयी है ! एक मज़बूत फिल्म है KGF ,
KGF ONE में गरुड़ा को मरने क बाद जो hype बनता है , जैसे बाहुबली फिल्म में कटपाा ने बाहुबली को क्यों मारा था ये विषय बहुत चर्चा में था , उसी तरह इस फिल्म के पहली भाग में अंत में जब रॉकी गरुड़ को मार डालता है , और जो रोमांच बनता है, उसका क्या ही कहना ,
में फिल्म की सर्फ और सिर्फ तारीफ ही करूँगा और बाकी कलाकारों के बारें में बता कर आपलोगों को बोर नहीं करूँगा ,
क्यों की आपको उससे क्या ?
फिल्म बहुत ही ग्रिप्पिंग है और कही भी आपको बोरियत नहीं महसूस होगी , इसका दावा है. हर एक कलाकार चाहे वह जूनियर आर्टिस्ट ही क्यों न हो , हर एक को बहुत ऐहमियत दी गयी है , कलाकार यश ने कमाल की अभिनेय किया है , और निदेशक प्रशांत नील ने अपना काम बा खूबी निबाहया है,
KGF 2 की समीक्षा: ‘KGF: अध्याय 1’ ने एक स्लीक गैंगस्टर फ्रैंचाइज़ी के लिए टोन सेट किया-शैली और विवरण पर उच्च। पहला भाग राजा कृष्णप्पा बैर्या उर्फ ​​रॉकी भाई के इरादों और शक्ति को स्थापित करने के बारे में था। दूसरा भाग अपनी प्रचार सामग्री के साथ प्रचार करने में कामयाब रहा है जो फिल्म में एक झलक देता है। क्या फिल्म बिल्ड-अप से मेल खाती है? यह एक बेहतर सीक्वल करता है और प्रदान करता है और अंत में प्रशंसकों के लिए एक बड़ा आश्चर्य भी है।
फिल्म की शुरुआत आनंद इंगलागी के बेटे विजयेंद्र इंगलागी से होती है, जिन्होंने कथाकार के रूप में पदभार संभाला है। रॉकी ने केजीएफ के लोगों का दिल जीत लिया है और वह अब बड़े सपने देखने और अधिक खतरनाक रास्तों पर चलने की प्रक्रिया में है। इस प्रक्रिया में, उसका सामना अधीरा से होता है, जो वाइकिंग्स से प्रेरित है और आंतक भय पैदा करता है, जो केजीएफ को वापस चाहता है। साथ ही, उसे धर्मी प्रधान मंत्री रमिका सेन का भी सामना करना पड़ता है, जो रॉकी को भी हटाना चाहती है।
रॉकी के शीर्ष तक की यात्रा की एक रसीली कहानी में कहानी तेज गति से आगे बढ़ती है। फिल्म, पहले भाग की तरह, एक अंधेरी, नीरस दुनिया को प्रस्तुत करती है जिसे स्टाइलिश ढंग से शूट किया गया है। जबकि पहले भाग में यह साबित करने में समय लगा कि नायक कौन था और इसे स्थापित करने के लिए अधिक समय शामिल किया गया था, यह दूसरा भाग तेजी से आगे बढ़ता है और अधिक पात्रों से मिलता है। संघर्ष और लड़ाई इस बार अधिक दिलचस्प हैं।
इस फिल्म में रॉकी के भावनात्मक पक्ष को भी दिखाया गया है, जिसमें एक प्रेम कहानी और यहां तक ​​कि उनके पिछले जीवन की कुछ झलकियां भी हैं जिन्होंने उनकी महत्वाकांक्षा को हवा दी। प्रेम कहानी भी कहानी से ज्यादा दूर नहीं ले जाती है। फिल्म में सबसे अच्छे शॉट्स में से एक संजय दत्त द्वारा निभाई गई अधीरा का परिचय है। यह स्क्रीन पर शुद्ध जादू है और व्यवस्थित रूप से सीटी बजाता है। प्रधानमंत्री के रूप में रवीना टंडन का भी अच्छा ट्रैक है। अन्य दिलचस्प अतिरिक्त सीबीआई अधिकारी के रूप में राव रमेश हैं। प्रकाश राज एक अच्छा कथाकार भी बनाते हैं, अपने बैरिटोन के साथ एक इमर्सिव अनुभव जोड़ते हैं।
यह फिल्म उतनी ही फिल्मकार प्रशांत नील की है, जितनी यश की। दोनों एक सीक्वल देने में कामयाब रहे हैं जो पहले भाग की तुलना में अधिक प्रभावशाली लगता है। हालाँकि, प्रशांत ने हमेशा यह कहा है कि दूसरे भाग में उनकी मूल कहानी का बड़ा हिस्सा था जब उन्होंने इसे दो भागों में तोड़ने का फैसला किया।
दर्शकों के लिए जो स्टाइल, भारी-भरकम स्टंट और संवादों के साथ एक भरी हुई एक्शन फिल्म देखना चाहते हैं, यह बस ऑर्डर करने के लिए बनाई गई है। केजीएफ: चैप्टर 2 शायद जाग रहे दर्शकों को पसंद न आए, जो हिंसा जैसे कमर्शियल स्टेपल पर सहमति या नाइटपिक पर सवाल उठाएंगे। लेकिन जो लोग ऐसी फिल्मों को पसंद करते हैं, उनके लिए यहां एक आवश्यक स्पॉइलर है, क्योंकि अंत क्रेडिट में संभावित तीसरे अध्याय पर एक संकेत है, इसलिए अंत तक प्रतीक्षा करें।

Related posts

There was a stampede in Pakistan about this film by Imraan Hashmi, there was a huge crowd

बोल्ड गाउन पहनकर मालिका ने बिकेरा जलवा ! किया रैंप वॉक

entertainmentexpress

आर माधवन ने दिग्गज स्टार रजनीकांत के पैर छूकर लिया आशीर्वाद

entertainmentexpress

Leave a Comment